Indian Army

Indian Army

तुमने कलम उठाई है तो वर्तमान लिखना,
हो सके तो राष्ट्र का कीर्तिमान लिखना !
चापलुस तो लिख चुके हैँ चालीसा बहुत,
हो सके तो तुम हृदय का तापमान लिखना !
महलों मेँ गिरवी है गरिमा जो गाँव की,
सहमी सी सड़कों पर तुम स्वाभिमान लिखना !
और मैँ अब ज्यादा क्या कहूँ आपसे,
बस अपनी सभ्यता और संस्कृती को प्रणाम लिखना !!

संदेश - आचार्य अनूपदेव

79 attendees (None invited)